🚩The Atheists of India🚩 ©@✒GBG⚔





🚩The Atheists of India🚩 ©@✒GBG⚔

1.  Lets try and understand today, 'The Origin of the Concept of Human Quest to Know the Unknown,  Creation of God to fill in the Empty Spaces,  and the Systemic Organisation of Universe' around  us.

2. The human brain has been seeking answers to universal quizzes for ages now, and as a result, all his not easily understood fears and anxieties, were deitified as 'God', or 'gods and goddess', or 'evil demons'. This became the root of religions based on appeasing these gods and goddesses to get benificial results, and compilation of detailed texts on how to go about the business of doing so, either written by a person, or some persons  over a period of time ranging from some years or some centuries.

3. Along with a lot of mumbo jumbo on business of god, (directly benefitting the exploitative priests), these texts also adressed other human issues like trade, health, medicine, agriculture, social organisation, social norms, personal and social morals and ethics, although these texts only could impart knowledge as per the limited information available to their authors,  at the time these texts were written, or  compiled.

4.  We can not and should never forget that these religious texts, and the knowledge aswellas instructions within them,  must have been relatively relevant in a particular time and space, but may not really be as relevant today, as they were in the past, but those  belonging to priestly or political class, thos who benefited directly, both economically and politically, by  proclaiming these texts divine, created a divine halo around them, and even proclaimed these texts to have some super human or so called divine origin. This is how basically all religions and all the 'Kleshaas' attached to them came in to being.

5.  Not every one was or is satisfied by these religious texts, as not every one is ready to blindly commit one self,  to a thought process in which he or she is born or initiated when young.    Out of an extremely exploitative   clutter in organised religions , and the  need for freethinking human's  to seek the truth, arose the quest for esoteric knowledge.   In the west, this esoteric understanding grew much later but in India,  it took root some 2500 years ago, in the Indo-Gangetic plain, which then experienced a massive  urbanization wave.

6.  This urbanisation surge in turn produced opportunity for trade, wellness, leisure and pleasure, giving opportunity to intellectual traditions, to take birth and grow.  Buddhism, Jainism, Charvakism and  Ajivikas were thus born.

7.  All these traditions rejected conventional Vedic beliefs, the concept of 'God' so common in India,  and all the jigmaroll  attached to it, including the mumbo-jumbo mythical theories of creation, and thus these traditions came to be called the atheistic (नास्तिक) traditions by Indian standards. Just a point worth mentioning here is that every, cave, every meditative space, every temple, does not necessarily mean that it has some god or religion attached to it. The cave, temple or the meditative space may have been created by an atheist thinker, scientist or an atheist  monk.

8.   भारतीय दर्शन परम्परा में, नास्तिक वह है जो वेदों से, कर्मकाण्ड से, वर्ण व्यवस्था से विन्मुख हो कर बात करे। भगवान के होने या न होने पर बहस करना या केवल किसी ईश्वरीय सत्ता से  विन्मुख होना भारतीय नास्तिक दर्शन का विषय वस्तु  नहीं है, क्यों की  ऐसा करने से इस दर्शन का  स्कोप घट जाता है। ईश्वर पर बहस की जगह इन दर्शनों में जीवन को समझने और उसे सार्थक तरीके से जीने पर कहीं ज्यादा ज़ोर है।

9.  पक्के तौर पर जान लीजिये की भारतीय नास्तिक दर्शन वेदों के दर्शन से विन्मुख है, या यों कहिये की वेदों को नास्तिक दर्शन,  सिवाय काल्पनिक देवी देवताओं की कहानियां, प्रकृतिक सत्यों पर देवी देवताओं का चलाकी से या अज्ञान वश किया गया प्रतिरोपण, यानी झूठ, और इधर उधर की बकवास के पुलिंदों के इलावा कुछ नहीं मानता।

10. The theistic tradition in Indian belief system simply means  belief in Vedas.  भारतीय दर्शन परम्परा में उन दर्शनों को आस्तिक कहा जाता है जो वेदों को प्रमाण मानते हैं, या वेदों को सीधा ही उठा कर कचरे के हवाले नहीं करते। भारतीय आस्तिक दर्शन  6 हैं। इन के नाम हैं न्याय दर्शन, वैशेषिक दर्शन, सांख्य दर्शन, योग दर्शन, वेदान्त दर्शन (aka उत्तर मीमांसा) और मीमांसा (aka पूर्व मीमांसा) दर्शन। क्यों की यह 6 हैं, इन्हें छष्ट-दर्शन भी कहा जाता है। यहाँ यह कहना अनुचित न हो गा की यह दर्शन सब के सब वेदों से उतपन नहीं हुए, केवल बात इतनी है की यह वैदिक सिद्धान्तों को सिरे से नकारते नहीं। कुछ को मानते हैं, कुछ को नहीं मानते, जैसे की पूर्व मीमांसा वैदिक कर्मकाण्ड को ही मोक्ष का द्वार मानता है, परन्तु वेदांत, या उत्तर मीमांसा कर्मकाण्ड को सिरे से ख़ारिज करते हुए केवल उपनिषेदिक ज्ञान को ही मोक्ष का द्वार मानता है। कुछ दर्शन द्वैत, यानि duality तो कुछ अद्वैत, यानि nonduality के प्रचारक हैं।  कुछ वेदांत दर्शन की तरहं परम् गूढ़ ज्ञान सत्यों को ईशारों और उपमाओं से समझते हैं, तो कुछ केवल लॉजिक और नम्बर्स , मैथमेटिकल मेथड का इस्तेमाल करते हैं।

11.अब बात करते हैं शुद्ध नास्तिक  दर्शन की। There are four basic systems of philosophies,  which defy the Vedas, as  standard benchmarks of understanding the truth, and  thus, do not accept vedas as the intellectual and spiritual understanding of universe, of these four philosophies, the  Buddhists, Jains, Ajivika, Charvkaas, and their  lifestyle and morality is termed as ‘Nastik Darshans’ or ‘Heterodox Philosophies’ of India. नास्तिक लोगों को बेवजह एक नेग्गेटिव रंग में रँगने की बराबर कोशिश रहती है, जब की मेरा तज़र्बा है की ऐसे लोग वहम भृमों से मुक्त और असूलों के पक्के, ज्यादा नैतिक मूल्यों वाले हुआ करते हैं। दंगे फसादों में जब आस्तिक धार्मिक एक दूसरे का वध करने में मशग़ूल होते हैं, तो नास्तिक ही हैं, जो सभी की रक्षा का प्रयत्न करते देखे जा सकते हैं।

12.  Buddhism and Jainism amongst them emerged as thriving religions/lifestyles,  whereas some like the Ajivikas or Charvaka traditions got lost in time, but their eternal message stayed. Buddhism and Jainism, having emerged as thriving religions, has  nothing to do with, or never had any connection with God, but ofcourse Budha and Mahavir having been deitified and them beginning to be worshiped like  gods is certainly a reason for this.

13.   The fact that  wise men like Budha and Mahavir started being termed as Bhagvaans, and ritualistic woships of Budha and Mahavira, and other ritualistic bullshit  to charm the average foolish mind was initiated in Buddhist and Jain practices,  has been instrumental, in these philosophies or lifestyles, having been transforming in to organised religions, again to the real benifit of priests and politicians alone.

14. The Charvkaas and Ajivika philosophies have no space for any foolish worship, beliefs  or rituals.  These pictures that I am sharing in this post are of Ajivika caves, In a place called Barabara, near Gaya in Bihar. The Caves were built for and used by the mystics of Ajivika tradition. After the Avijikas faded off, these caves were used by Buddhist, Jains and Hindu sadhus as well.

15.  Today these caves are a popular tourist spot for visitors to Gaya. Who are unaware, that these caves, are the last vestige of an atheist tradition, which believed in  tradition of dining together of all castes and creeds, and the concept of working for a living, as preached by Guru Nanak, centuries later.

16.   आजीविक लोग अपनी जीविका का इंतज़ाम खुद करते हुए सन्यासी जीवन जीते थे। जब वह भ्रमण इत्यादि पे भी निकलते, तो कभी किसी बच्चे से, दूध पिलाती माँ से, किसी ग़रीब से अथवा एक ही व्यक्ति से बार बार, भिक्षा नहीं लेते थे। जातपात में विश्वास नहीं करते थे और सयुंक्त रूप से भोजन बनाते और इक्कठे बैठ कर भोजन करते थे।    इस ही तरहं की  प्रथा को मध्यकाल में कबीर साहिब, रविदास साहिब, और फिर नानक साहिब ने, अपना पेशा/किरत/काम/धन्दा करते हुए सन्यासी  जीवन जीने का सन्देश दे कर  प्रचलित किया। इन संतो नेँ भी नास्तिक-वाद (वेदों में अनास्था)  और नियती-वाद (हुक्म) का अलख जगाते हुए इस पुरानी परम्परा को ही जाने अनजाने में  जीवित  रक्खा।  चार्वाक ऋषि भी इसी नास्तिकवादी, नियतीवाद (हुक्म) की परंपरा के प्रेरक गुरु थे। इन सभी में कोई फर्क है तो वह केवल इतना,  कि चार्वाक पूर्णतय भौतिकवादी थे, यानी खाओ, खेलो, भोगो, और जियो। लेकिन बाकी नास्तिक धाराएं आध्यत्मिकवादी और 'मानव मन की गति पर शोध' से ज्यादा और भौतिकवाद से बेहद कम प्रेरित हैं।

17.   यह भी याद रहे कि,  नियति-वाद (हुक्मे अंदर सब किछ, बाहर हुक्म न कोए) भाग्य-वाद नहीं  बल्कि प्रकृतिक-सिद्धान्तवाद है । इस दर्शन परंपरा की मान्यता है कि सबकुछ प्रकृति-सृष्टि के असूलों के अधीन है। मनुष्य अपने पराक्रम से उन असूलों में कोई हेर-फेर करने की क्षमता नहीं रखता , लेकिन उन्हें समझ बूझ कर, उन सिद्धान्तों को इस्तेमाल करते हुए अपने जीवन को सार्थक बना सकता है.

18.  जैसा की मैंने अक्सर अपने लेखों में कहा है कि,  कोई वाहेगुरु, राम या अल्लाह का नाम ले कर 4 मंज़िला इमारत से छलांग लगाये ती निश्चित ही मृत्यु का ग्रास बने गा, लेकिन ऐयरोडायनमिक्स, ग्रैविटी और बाकि के प्रकृति द्वारा निर्मित सिद्धान्तों को समझते हुए, यदि एक पैराशूट के सहारे उड़ते हुए जहाज़ से भी कूद जाये, तो अवश्य सुरक्षित रहे गा।
🚩तत्त सत्त श्री अकाल🚩
©✒Guru Balwant Gurunay⚔

No comments:

Post a Comment