🚩What is Basically Wrong with Islam?🚩Super Secret revealed for the heads of states🕯@✒GBG⚔

🚩What is Basically Wrong with Islam?🚩Super Secret revealed for the heads of states🕯@✒GBG⚔i

1.   Let me set the slate clean right in the beginning.  My finding fault with any religion, for instance Islam or Sikhs is not to find sanction with my Hindu
or Christian friends and my taking on the Hindu malpractices is not to appease my Muslim or Sikh friends.

2.  Having said that let me define most briefly the cardinal flaw in Islam. The beheading of a one year infant by her muslim father, and further stabbing of his wife, the child's mother, a German girl
in a moving train, in Germany itself, and other instances of islamic terrorism is the reason for this post.

3.  The fact, that many of us citizens, and heads of state like Merkel, fail to recognise is that
Islam is not a religion, and Koran is not a spiritual book, but  that Islamis a Socio-Political system and Koran is its constitution or Law Book.

4.  Here in lies the root problem. A muslim migrant from any where in the world, wants to migrate to a developed nation, to find a better living, but he or she steps in to a  more affluent democratic state, having its democratic constitution, carrying along the burden of his theo-state, that is Islam and its law book, Koran.

5.    He or she wants to be an American, Canadian  or German, at thevsane time  continuing to  accept Mohammad as the head of his theo-political state, and at the same time refusing to recognise Trump, Trudeau or Merkel as his President or PM, and at the same refusing to recognise their new nation's constitution as their constitution, over and above the  Koran as his basic Law book.

6.   Unless the Trumps, Trudeaus or Merkels of this world, begin to
 see this extremly clearly, they shall continue to make their nations and citizens victims of Islamic terror and violence.

🚩Truth alone is Divine, Let's face it🚩
©🔱✒Guru Balwant Gurunay⚔🔱

भगवान वगवान और टोना टोटका का सच्च🚩@✒GBG⚔

🚩यदी मैं कहूँ कि कोई भगवान वगवान नहीँ, तो शायद आप को बुरा लगे, लेकिन सच्च तो कहना ही हो गा🚩@✒GBG⚔

1.  मैं जानता हूँ की आप सभी, किसी न किसी देवी, देवता, भगवान, अल्लाह इत्यादि में विश्वास करते हैं, और यह भी कि आप ने अपने विश्वास को कभी तर्क की कसौटी पर परख कर नहीं देखा, बस अपने समाज की चलन्त प्रथाओं के चलते, जो आप ने देखा, उस  ही का देखा-देखि पालन करना शुरू कर दिया।  मेरा अनुरोध है की आज, थोड़ी देर के लिए ही सही , लेकिन इस विषय पर थोड़ा सोच कर देखा जाये। मेरे इस लेख का बैकग्राउंड यह है की मेरे एक मित्र के सगे भाई ने ज़मीन जयदाद के मामले में अपने हीे भाई से बड़ी धोखाधड़ी करने का क्रम चला रखा है। पूछ ताछ से पता चला की उस ने आजकल कुछ तांत्रिकों को पैसे दिए हैं की वह ऐसा प्रयोग करें की भाई चुप रहे, जब की छोटा भाई केवल इस लिए चुप है कि परिवार हास्य का पात्र न बने।

2.   ज़रा सोचिये,  हम विज्ञान के युग में  रहते हैं, और एक नहीं, हजारों ऐसी वस्तुओं का इस्तेमाल करते हैं, जो विज्ञानं की देन हैं, लेकिन हम हैं की विज्ञान का शुकिया कभी नहीं करते। इस युग में भी लोग जादू टोना टोटका का सहारा ले रहे हैं। अँधा और मूर्ख मानव, लालसाओं और लालच की पूर्ती हेतु, अन-देखे भगवान को तो करोड़ों रुपये और यहां तक की पशु और नर-बली तक चढ़ा रहा है, लेकिन उस में विज्ञानं या न्याय के लिये  सच्ची श्रद्धा नदारद ही है। दूसरा हंसी की बात यह है की खुद,  कई वैज्ञानिक, बड़े चिकित्सिक और इंजीनियर इत्यादि मन्दिरों मस्जिदों गुरुद्वारों में, यहां तक की तथा-कथित तांत्रिकों के पास कीड़ों की तरहं रेंगते फ़िरते हैं, और अपनी विद्या, और स्किल्ल्ज़ इत्यादि को देवकृपा ही बतलाते हैं। They think of putting up such behaviour  as being humble.

3.   कभी खुद से पूछिये तो सही, की आग, कागज, पहिया, नवीन खेती की विधियां, बड़ी बड़ी इमारते, डैम इत्यादि बनाने की विधियां और टेक्नोलॉजी,  स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग, पानी के विशाल जहाज, हवाई जहाज, कंप्यूटर, मोबाइल्स, विभिन्न प्रकार के वाहन, घरेलू सुख चैन का सामान, जैसे फ्रिज, टीवी, इत्यादि, संचार के साधन, चिठ्ठी से ले कर सोशल मीडिया तक, यह सब आप को किस ने दिया, आप के आग या नाग देवता ने, आप के भगवान ने,  या  फिर  विज्ञानीक इन्सान ने ❓

4.    विज्ञान के इलावा, इन्सानी समाज, धर्म, मंदिर मस्जिद, और यहां तक की भगवान, रब्ब,  अल्लाह इत्यादि भी, सब के सब इन्सान के दिमाग का ही खेल है। इंसान ने ही अपनी जरूरत के मुताबिक मन्दिर मस्जिद बनाये, और उन में भाँति भांति के आकार वाले देवी देवता,  या कोई काल्पनिक निरंकार भगवान अथवा अल्लाह बनाये,  लेकिन यह सब जानने के बाद भी मूर्ख भगवान में और बाकी बेवकूफियों में अंध विशवास रखते हैं, और यहां तक की किसी अदृश्य भगवान की ख़ातिर पशुबलि, या नरबली तक भी दे देते हैं। जानते हैं क्यों, निहित स्वार्थ और अज्ञान के चलते, अपनी अनगिनत ख्वाहिशों की पूर्ती के लिये। 

5.  यह भी विचारणीय है की मनुष्य के ईलावा दुनिया के एक भी प्राणी द्वारा भगवान को माने जाने का कोई प्रमाण नहीं मिलता,  और न ही कोई कुत्ता, बिल्ला, तोता या कोई और जानवर एक दूसरे के ख़िलाफ़ टूना-टोटका करते हैं, जब की मूर्ख मानव ने सांपो, चूहों, शेरों, हाथी इत्यादि में भी भगवान स्थापित किया है, और निम्बू को स्कंजवी बनाने की सामग्री से बेहतर उसे अपने दरवाज़े पे लटकाना समझा है।   हर गांव, नगर, शहर का अलग देवता है।  जाहिर है, जैसी जिस की कल्पना रही हो गी, उस ने  वैसा ही देवी देवता, भगवान इत्यादि बनाया हो गा।

6.   जिस दिन मंदिरों,मसजिदों,गिरजाघरों और बाकी धर्मस्थलों इत्यादि में और इन मानव निर्मित तथाकथित भगवानों के आगे चढ़ावा चढ़ना बंद हो जाएगा, उस ही दिन पुजारी अपने अपने भगवान, सब ढब ढकोसला है कह कर,  बाहिर फेंक दें गे और कोई दूसरा धंधा शुरू कर देंगे।

7.   मित्रो याद रखिये की जैसे इन्सान ने अपनी सुविधा हेतु विज्ञानं का प्रयोग किया, वैसे ही अपने दिमाग के पागलपन की शांती, अपनी अनभिज्ञ भावनाओं की तृप्ति, अपने भय और अनिश्चिताओं से मुक्ति पाने हेतु इन्सान ने,  अपनी अपनी मर्जी का भगवान भी घड़ लिया।

8.   यानी भगवान  इन्सान की ही एक ऐसी प्राचीन कृति  है,  अब जिसे इन्सान,  अपने होने का मूल कारण समझ बैठा है, और यह सब सिर्फ इस लिए की उस की, 'खुद के होने की वजह की तलाश' अभी बाकी है, हालांकि यह तलाश बेमानी है। 

9.   इन्सान की अपनी अनबूझ पहेलियों के उत्तर, भगवान में, टोनों टोटकों में ढूँढने की क़वायद एक बेवकूफ़ी है, क्यों की इन्सान को मानसिक अमन चैन,  इन सब  से नहीं मिलता।  वह कौन है, कहाँ से आया है इत्यादि जान लेने में इन्सान की शान्ति की चाबी नहीं है,  बल्कि इन्सान के सुख चैन की कुंजी 'सहजता में'  या 'केवल होने मात्र' में है'। 

10.   तू  कहाँ से आया है, कहाँ जाये गा, यह सब जान के क्या करे गा भाई। तू है, बस इतना ही काफ़ी है, इस लिए आनंदमयी हो जा। तेरा 'होना ही' 'सेलिब्रेटेबल है, इवेंटफ़ुल है। ज्यादा अपनी (Papa orange november, golf, india)  मत घिसा। तेरे टोन टामण, तेरे देवी देवता, तेरे भूत प्रेत,  और तेरा भगवान, सब तेरे मूरख मन का खेल हैं।  तेरे धर्म वर्म भी, जैसे ही,  जीवनजांच का माध्यम न रह कर, केवल कर्मकाण्ड, पूजा प्रसाद, धूफ जोत, रुमाल दोशाला, स्वर्ग नर्क इत्यादी  लेने देने, या पाने खोने के माध्यम बनते हैं, वैसे ही वह भी तेरी मूर्खता की निशानी बन जाते हैं।

11.   Enjoy your life.  Simply your being here and now is enough. Nothing else needs being known about this or any other word for being happy. Yes, dont steel, dont hoard, dont kill out of fear or out of greed, Live and Let Live.Thats it.
🚩🔑तत्त सत्त श्री अकाल🔑🚩
🔱✒गुरु बलवन्त गुरुने⚔🔱

🚩 ਸੱਚ ਹੀ ਰੱਬ ਹੈ, ਬਾਕੀ ਸਬ ਢੱਬ ਹੈ🚩@✒GBG⚔

🚩 ਸੱਚ ਹੀ ਰੱਬ ਹੈ, ਬਾਕੀ ਸਬ ਢੱਬ ਹੈ🚩@✒GBG⚔

1.  ਕੋਈ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ ਹਿੰਦੂ ਜਾਂ ਈਸਾਈ  ਧਰਮ ਸਿੱਖ ਧਰਮ ਲਈ ਖਤਰਾ ਹੈ। ਕੋਈ ਕਹਿੰਦਾ ਹੈ ਕਿਸੇ ਇੰਨਸਾਨ ਨੂੰ ਆਪਣਾ ਗੁਰੂ ਯਾ ਮੁਰਸ਼ਿਦ ਮਨਣਾਂ ਗਲਤ ਹੈ, ਲੇਕਿਨ  ਉਹ ਹੀ ਕਹਿੰਦੇ ਹਨ, ਕਿਸੇ ਤਸਵੀਰ ਨੂੰ,  ਜਾਂ ਪੱਥਰ ਦੀ ਮੂਰਤੀ ਨੂੰ ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕਿਤਾਬ ਨੂੰ,  ਊੰਚੀ ਮੰਜੀ ਜਾਂ ਥੜੇ  ਉੱਤੇ ਰੱਖਣਾ ਅਤੇ ਰੱਬ ਮੰਨ ਕੇ ਪੂਜਣਾ ਦਰੁਸਤ ਹੈ...... ਕਿੰਵੇ⁉

2.   ਜਿੱਸ ਮੰਜੀ ਉੱਤੇ ਕੋਈ ਧਾਰਮਕ ਪੁਸਤਕ ਰੱਖੀ ਗਈ ਹੋਵੇ, ਜਾਂ ਕੋਈ ਕਿਸੇ ਭਗਵਾਨ ਦੀ ਮੂਰਤੀ ਰੱਖੀ ਹੋਵੇ,  ਓਹਨੂੰ ਮੰਜੀ ਸਾਹਿਬ, ਉੱਤੇ ਟੰਗੀ ਚਾਨਣੀ ਨੂੰ ਚਾਨਣੀ ਸਾਹਿਬ, ਚੌਰ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਜਾਨਵਰਾਂ ਦੇ ਲੰਬੇ ਬਾਲਾਂ ਨਾਲ ਬਣੇ  ਉਪਕਰਣ ਨੂੰ ਚੌਰ ਸਾਹਿਬ, ਜੇ ਕੋਈ ਭੁੱਲਿਆ ਭਟਕਿਆ ਬਾਜ਼ ਗੁਰੁਦਵਾਰੇ ਆ ਵੜੇ ਤਾਂ ਬਾਜ਼ ਸਾਹਿਬ, ਅੱਜ ਕੱਲ ਤਾਂ ਲੰਗਰ ਨੂੰ ਵੀ ਲੰਗਰ ਸਾਹਿਬ ਕਹਿਣ ਵਾਲੇ  ਲੋਗ ਕਿਸੇ ਦਾਨਿਸ਼ਮੰਦ, ਪੜ੍ਹੇ ਲਿਖੇ ਗਿਆਨ ਦਾਤਾ ਇਨਸਾਨ ਨੂੰ, ਮਾਸਟਰ ਸਾਹਿਬ, ਪ੍ਰੋਫੈਸਰ ਸਾਹਿਬ, ਗੁਰੂ ਸਾਹਿਬ ਯਾ ਪੀਰ ਸਾਹਿਬ ਕਹਿਣ ਵਾਲਿਆਂ ਉੱਤੇ ਕਿੰਤੂ ਪ੍ਰੰਤੂ ਕਰਨ ਦਾ, ਕੀ  ਹੱਕ ਰੱਖਦੇ ਹਨ ❓

3.  ਇਹਨਾਂ ਸਾਰੇ ਹੀ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਮੇਰਾ ਪਹਿਲਾ ਸਵਾਲ ਹੈ....
ਗੀਤਾ ਮੰਨਣ ਦੀ ਚੀਜ ਹੈ ਜਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਦੀ ❓
ਰਾਮਾਇਣ ਮੰਨਣ ਦੀ ਚੀਜ ਹੈ ਜਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਦੀ ❓
ਪੁਰਾਣ ਮੰਨਣ ਦੀ ਚੀਜ ਹਣ ਜਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਦੀ ❓

4.   ਕੁਰਾਨ,  ਬਾਈਬਲ , SGGS  ਅਤੇ ਹੋਰ ਧਰਮ ਗ੍ਰੰਥ ਵੀ, ਕੋਈ ਮੰਨਣ ਵਾਸਤੇ, ਪੂਜਣ ਵਾਸਤੇ, ਜਾਂ ਧੂਫ਼ਾਂ ਦੇਣ ਵਾਸਤੇ ਲਿਖੇ ਗਏ ਹਣ, ਜਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਸਮਝਨ ਅਤੇ  ਫਿਰ, ਉਹਨਾਂ ਵਿੱਚ ਦਰਜ ਸਿਖਿਆ ਉੱਤੇ ਅਮਲ ਕਰਨ ਵਾਸਤੇ ⁉

5.  ਦੂਜਾ ਸਵਾਲ ਇਹ ਹੈ ਕੇ  ਕਿਸੇ ਵੀ ਵਯਕਤੀ ਨੂੰ ਆਪਣਾ ਮਾਸਟਰ/ ਗੁਰੂ/ ਟੀਚਰ / ਮੁਰਸ਼ਿਦ ਇਤਆਦਿ ਮੰਨਣ ਉੱਤੇ ਕਿੰਤੂ ਪਰੰਤੁ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਲੋਗ ਇਹ ਕਿਉਂ ਭੁੱਲ ਜਾਂਦੇ ਨੇ, ਕੇ ਇਹ ਸਾਰੇ ਗ੍ਰੰਥ ਵੀ, ਕਿਸੇ ਬੰਦੇ ਨੇ,  ਕਿਸੇ ਵਯਕਤੀ ਨੇ ਹੀ ਲਿਖੇ ਹਨ,  ਜਾਂ ਸੰਪਾਦਿਤ ਕੀਤੇ ਹਨ ❕❕❕❕❕❕⁉

6.  ਗੀਤਾ ਗੁਰੂ ਵੇਦ ਵਿਆਸ ਨੇ ਲਿਖੀ ਹੈ, ਮਹਾਭਾਰਤ ਗ੍ਰੰਥ ਦੇ ਇੱਕ ਨਿੱਕੇ ਜਿਹੇ ਹਿੱਸੇ ਦੇ ਰੂਪ ਵਿੱਚ। ਬਾਈਬਲ  ਸਦੀਆਂ ਪਹਿਲਾਂ ਹੋਏ ਇੱਸਾਈ ਰਿਸ਼ੀਆਂ ਮੁੰਨੀਆਂ, ਗੁਰੂਆਂ ਪੀਰਾਂ ਨੇ ਲਿੱਖੀ ਹੈ, ਕੁਰਾਨ ਮੋਹੰਮਦ ਸਾਹਿਬ ਨੇ ਲਿਖੀ ਹੈ, ਅਤੇ SGGS ਨੂੰ, 6 ਗੁਰੂ ਸਾਹਿਬਾਨ ਨੇ ਲਿਖਿਆ ਅਤੇ ਸੰਕਲਿਤ, ਅਤੇ ਸੰਪਾਦਿਤ ਕੀਤਾ ਹੈ।

7.   ਇਹ ਪ੍ਰਮਾਣਿਤ ਸੱਚ ਹੈ ਕੀ  ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਵਿੱਚ ਛੇ ਗੁਰੂ ਸਹਿਬਾਨਾਂ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ 15 ਭਗਤਾਂ, 11 ਭੱਟਾਂ ਤੇ ਤਿੰਨ ਗੁਰੂ ਘਰ ਦੇ ਸਿੱਖ ਸ਼ਰਧਾਲੂਆਂ ਦੀ ਬਾਣੀ ਵੀ ਦਰਜ ਹੈ। 6 ਗੁਰੂ ਸਾਹਿਬਾਨ, ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਬਾਣੀ SGGS ਜੀ ਵਿੱਚ ਦਰਜ਼ ਹੈ, ਦੇ ਨਾਮ ਹਣ, ਗੁਰੂ ਨਾਨਕ ਦੇਵ ਜੀ,
ਗੁਰੂ ਅੰਗਦ ਦੇਵ ਜੀ, ਗੁਰੂ ਅਮਰਦਾਸ  ਜੀ, ਗੁਰੂ ਰਾਮਦਾਸ ਜੀ, ਗੁਰੂ ਅਰਜਨ ਦੇਵ ਜੀ ਅਤੇ  ਗੁਰੂ ਤੇਗ ਬਹਾਦਰ ਜੀ। 

8.   ਜਿਨਾਂ 15 ਭਗਤਾਂ ਦੀ ਬਾਣੀ SGGS ਜੀ ਵਿੱਚ ਦਰਜ ਹੈ, ਉਹ ਹਨ ਭਗਤ ਕਬੀਰਜੀ, ਜਿਨ੍ਹਾਂ ਦੇ 54o ਸ਼ਬਦ ਤੇ ਸ਼ਲੋਕ ਗੁਰੂ ਗ੍ਰੰਥ ਸਾਹਿਬ ਵਿੱਚ ਦਰਜ ਹਨ। ਭਗਤ ਰਵਿਦਾਸ ਜੀ ਦੇ 40 ਸ਼ਬਦ, ਭਗਤ ਨਾਮਦੇਵ  ਜੀ ਦੇ 61 ਸ਼ਬਦ, ਸ਼ੇਖ਼ ਫ਼ਰੀਦ ਜੀ ਦੇ ਚਾਰ ਸ਼ਬਦ ਅਤੇ 130 ਸਲੋਕ ਦਰਜ ਹਨ। ਹੋਰ ਭਗਤਾਂ ਦੇ ਨਾਮ ਹਣ, ਧੰਨਾ ਜੱਟ ਜੀ,  ਬੇਣੀ ਜੀ,  ਭੀਖਨ  ਸ਼ਾਹ ਜੀ, ਸਧਨਾ ਜੀ, ਪੀਪਾ ਜੀ , ਤ੍ਰਿਲੋਚਨ ਜੀ, ਰਾਮਾਨੰਦ ਜੀ,  ਜੈਦੇਵ ਜੀ, ਪਰਮਾਨੰਦ ਜੀ,  ਸੂਰਦਾਸ ਜੀ ਅਤੇ, ਸੈਣ ਜੀ। 11 ਭੱਟਾਂ ਦੇ ਨਾਮ ਹਣ, ਕਲਸ ਹਾਰ ਜੀ , ਜਾਲਪ ਜੀ, ਕੀਰਤ ਜੀ , ਭਿਖਾ ਜੀ , ਸਲ੍ਹ ਜੀ, ਭਲ੍ਹ ਜੀ, ਨਲ੍ਹ ਜੀ, ਬਲ੍ਹ ਜੀ,  ਸਯੰਦ ਜੀ, ਸਥਰਾ ਜੀ,  ਅਤੇ ਹਰਿਬੰਸ ਜੀ। ਇਹਨਾਂ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ 4 ਗੁਰੂ ਘਰ ਦੇ ਪ੍ਰੇਮੀਆਂ ਦੀ ਬਾਣੀ ਵੀ SGGS ਜੀ ਵਿੱਚ ਦਰਜ ਹੈ। ਓਹਨਾਂ ਦੇ ਨਾਮ ਹਣ, ਬਾਬਾ ਸੁੰਦਰ ਜੀ, ਭਾਈ ਮਰਦਾਨਾ ਜੀ, ਸੱਤਾ ਡੂਮ ਜੀ , ਅਤੇ ਰਾਏ ਬਲਵੰਤ/ਬਲਵੰਡ ਜੀ।

9.   ਵਿਚਾਰ ਕਰੀਏ ਤਾਂ ਇਹ ਸਬ ਵੀ ਇਨਸਾਨ ਹੀ ਸਨ, ਅਤੇ ਇਹ ਸਾਰੀ ਬਾਣੀ  ਇਨਸਾਨਾਂ ਦੀ ਹੀ ਲਿਖਤ ਹੈ, ਜੋ ਆਪੋ ਆਪਣੇ ਹੱਕ ਵਿੱਚ ਸੰਤ, ਪੀਰ ਫ਼ਕੀਰ, ਮੁਰਸ਼ਿਦ, ਗੁਰੁਜਣ ਅਤੇ ਮਹਾਂਪੁਰੁਸ਼ ਸਣ।

10.  ਤਾਂ ਫ਼ਿਰ,  ਕੀਤਾਬਾਂ ਅਤੇ ਪੱਥਰ ਦੀ ਮੂਰਤੀਆਂ ਦੀ ਪੂਜਾ ਕਯੋਂ?  ਇਨਸਾਨਾਂ ਨਾਲ ਇਤਨਾ ਵੈਰ ਕਿਓਂ ?  ਮੇਰਾ ਸਿੱਧਰਾ ਜਿਹਾ ਸੰਦੇਸ਼ ਹੈ, ਸਾਰੀਆਂ ਦਾ ਹੀ ਮਾਣ ਸੱਮਾਨ ਕਰੀਂ ਚੱਲੋ। ਵੈਸੇ ਪੱਥਰ ਪੂਜਣ ਬਾਰੇ ਤਾਂ  'ਕਬੀਰ ਜੀ ਲਿਖ ਗਏ ਹਨ, 'ਪਾਹਨ(ਪੱਥਰ) ਪੂਜੇ ਹਰੀ ਮਿਲੇ, ਤੋ ਮੈਂ ਪੂਜੂੰ ਪਹਾੜ,' ਅਤੇ ਅਗੇ ਲਿਖਦੇ ਹਨ, 'ਪੋਥੀ ਪੜ੍ਹ ਪੜ੍ਹ ਜਗ ਮੁਆ, ਪੰਡਿਰ ਭਯਾ ਨ ਕੋਏ, ਏਕੇ ਆਖਰ ਪ੍ਰੇਮ ਕਾ, ਪੜ੍ਹੇ ਸੋ ਪੰਡਿਤ ਹੋਏ'। ਯਾਦ ਰਹੇ ਕਬੀਰ ਜੀ ਦੀ ਬਾਣੀ SGGS ਵਿੱਚ ਦਰਜ ਹੈ ਅਤੇ ਓਹਨਾਂ ਦੀ ਬਾਣੀ, ਗੁਰੂ-ਬਾਣੀ ਹੈ।

11.    ਧਰਮ ਦੇ ਝਗੜੇ ਮਿਟਾਉਣ ਲਈ, ਆਹ ਠੀਕ ਹੈ, ਆਹ ਗਲਤ ਹੈ, ਉਹ ਊਂਚਾ ਹੈ, ਉਹ ਨੀਂਵਾ ਹੈ, ਉਹ ਤੁਹਾਡਾ ਹੈ, ਆਹ ਸਾਡਾ ਹੈ, ਵਰਗੇ ਵਤੀਰੇ ਨੂੰ ਛੱਡ ਦਿਓ।  ਜੋ ਜਿਂਵੇ ਕਰਦਾ ਕਰੀ ਜਾਣ ਦੀਓ, ਹਰ ਇੱਕ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਹਿਸਾਬ ਨਾਲ ਜੀਣ ਦਾ ਹਕ਼ ਹੈ।

12.   ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੀ ਰਾਹ ਇਮਾਨਦਾਰੀ ਨਾਲ ਲੱਗੇ ਰਹੋ, ਹੋਰਨਾਂ ਦੀ ਫ਼ਿਕਰ ਕਰਨੀ ਛੱਡ ਦਿਓ।

13.   ਜੇ ਕੋਈ ਪਰਮਾਤਮਾ ਹੈ ਤਾਂ ਸਬ ਨੂੰ ਸੋਝੀ ਦੇਵੇ ਗਾ, ਵਰਨਾਂ ਇਹ ਸਬ ਬੁਨਿਯਾਦੀ ਤੌਰ ਤੇ ਹੀ ਫ਼ਜ਼ੂਲ ਦਾ ਝਗੜਾ ਹੈ, ਜਿੱਸ ਵਿੱਚ ਇਹ ਬੇਅਕਲਾ ਰੌਲਾ ਪਾ ਕੇ, ਕਿੱਸੇ ਨੂੰ ਕੁੱਜ ਨਹੀਂ ਗਾ ਮਿਲਨਾ।
ਅੱਪਣੇ ਗਿਰੇਬਾਨਂ ਮੇਂ ਸਿਰ ਨੀਂਵਾ ਕਰ ਕੇ ਦੇਖ।।

14.  ਇਥੇ ਮੇਰਾ ਇਹ ਕਹਿਣਾ ਵੀ ਅਵਸ਼ਯਕ ਹੈ, ਕੇ ਮੇਰੇ ਸਾਰੇ ਤਰਕ ਨੂੰ ਕਿਸੇ ਫਰਜੀ ਬੰਦੇ ਨੂੰ ਰੱਬ ਮਨਣ ਦਾ ਸੱਬਬ ਨਾਂ ਸਮਝਿਆ ਜਾਵੇ। ਮੜ੍ਹੀ ਮਸਾਣ ਤੇ ਬੈਠੇ  ਲੋਗ, ਕਬਰਾਂ ਦੇ ਖਿਦਮਤਗਾਰ,  ਜੋ ਖੁਦ ਨੂੰ ਪੀਰ ਅਖਵਾਉਂਦੇ ਨੇ,  ਸਾਧਾਂ ਦੀਆਂ ਸਮਾਧਾਂ ਤੇ ਬੈਠੇ ਚਮਤਕਾਰ ਦੇ ਦਾਵੇ ਕਰਨ ਵਾਲੇ  ਬੰਦੇ ਨੂੰ, ਜਾਂ ਕਿਸੇ ਕਰਤਬਕਾਰ ਮਦਾਰੀ ਨੂੰ, ਉਸਦੀ ਹੱਥ ਦੀ ਸਫਾਈ ਦੇ ਚਲਦੇ,  ਗੁਰੂ ਪੀਰ ਮੰਨਣਾ ਗਲਤ ਹੈ। ਹਾਂ ਉਹ ਮਦਾਰੀ ਆਪਣੇ ਚੇਲੇਆਂ ਦਾ ਗੁਰੂ ਤਾਂ ਅਵਸ਼ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ, ਕਯੋਂ ਕੇ ਮਦਾਰੀ ਪੁਣੇ ਦਾ ਗੁਰ ਤਾਂ ਉਹ ਹੀ ਸਿੱਖਲਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਜਿਸ ਕੋਲ ਗੁਰ ਹੈ, ਅਤੇ ਉਹ ਆਪਣੇ ਗੁਰ ਨੂੰ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਸਿਖਲਾਉਣ ਵਾਸਤੇ ਰਾਜ਼ੀ ਹੈ, ਤਾਂ ਉਹ ਗੁਰੂ ਹੈ।  ਇੱਕ ਬੰਦੇ ਦਾ ਗੁਰੂ ਦੂਜੈ ਦਾ ਵੀ ਗੁਰੂ ਹੋਵੇ, ਕੋਈ ਜਰੂਰੀ ਨਹੀਂ। ਸਬ ਦੀ ਆਪਣੀ ਪਿਆਸ ਹੈ, ਸਬ ਦਾ ਆਪਣਾ ਖੂਹ।

15.  ਆਪਣੇ ਟੀਚਰ, ਕੋਚ, ਪ੍ਰੋਫੈਸਰ, ਯਾ ਕਿਸੇ ਵੀ ਕਲਾ ਯਾ ਵਿਸ਼ੇ ਵਿੱਚ ਨਿਪੁੰਣ ਆਪਣੇ ਸ਼ਿਕਸ਼ਕ, ਇੰਸਟਰਕਟਰ  ਯਾ ਪਥ-ਪਰਦਰਸ਼ਕ  ਨੂੰ ਗੁਰੂ, ਪੀਰ, ਮੁਰਸ਼ਿਦ ਕਹਿਣ ਵਿੱਚ ਕੋਈ ਸੰਕੋਚ ਨਹੀਂ ਹੋਣਾ ਚਾਹਿਦਾ।  ਤੁਸੀਂ ਆਪਨੇ ਅਧਯਾਤਮੀਕਿ ਅਤੇ ਫਿਲਾਸਫੀ ਦੇ ਸਿਖਲਾਈ ਕਾਰ ਨੂੰ ਗੁਰੂ ਆਂਖੋਂ, ਤਾਂ ਕੋਈ ਹਰਜ਼ ਨਹੀਂ। ਬੰਦਾ ਅਤੇ ਪੁਸਤਕ, ਦੋਂਵੇ ਹੀ ਗੁਰੂ ਅਵਸ਼ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਣ, ਲੇਕਿਨ ਰੱਬ ਨਹੀਂ ।
ਰੱਬ ਅਲੱਖ ਹੈ ਅਤੇ ਨਿਰੰਜਨ ਵੀ। ਓਹਦੀ ਗੱਲ ਉਹ ਹੀ ਕਰਦਾ ਹੈ ਜੋ ਜਾਣਦਾ ਨਹੀਂ।
ਭੀਖਾ ਬਾਤ ਅਘਮ ਕੀ, ਕਹਿਣ ਸੁਣਨ ਕੀ ਨਾਹੀਂ,
ਜੋ ਜਾਣੇ, ਸੋ ਨਾਂ ਕਹੇ,  ਜੋ ਕਹੇ, ਸੋ ਜਾਣੇ ਨਾਹੀਂ ।।

📿ਤੱਤਸੱਤ ਸ਼੍ਰੀਅਕਾਲ⚔
©✒ਪ੍ਰੇਰਕ ਗੁਰੂ ਬਲਵੰਤ ਗੁਰੂਨੇ⚔🔱⛩🚩

🚩भृष्ट नेताओं और बिकाऊ बुद्धिजीवियों की ग्रिफ्त में भारत🚩 @🔱✒गुरु बलवन्त⚔🔱

🚩भृष्ट नेताओं और बिकाऊ बुद्धिजीवियों की ग्रिफ्त में  भारत🚩 @🔱✒गुरु बलवन्त⚔🔱

1. भारत के हालात देख  कर लगता है की देश के बहुसंख्यक नागरिक, यानी तकरीबन 75% लोग  जरूरत से ज्यादा भोले, या यूँ कहिये कि मूर्ख हैँ। तभी तो यह लोग इंसान होने से, यहां तक की भारतीय होने से भी कहीं ज्यादा,  अपनी धार्मिक,  इलाकाई या जातीय पहचान में इतना उलझे हुए हैं, की इन्हीं कद्रों कीमतों के चलते,  देश के भृष्ट राजनेता इन्हें बांटते हैं, और इन पर राज करते हैं।   केवल 25% प्रतिशत लोगों के पास, कारण-अकारण की, सच-झूठ की, लॉजिकल-इलोजिकल की समझ को समझने की समझ या चेष्ठा  है।  बहुत लोग 'चलता है,' या 'सानूं की',  की मानसिकता से भी ग्रस्त हैं ।

2.  जब मैं कहता हूँ की भारत में 25% लोग हैं जो सोचते हैं, तो इस का यह मतलब हरगिज़ नहीं की भारत में 25% लोग  बुद्धि जीवी हैं।  दरअसल 25% लोग  जागरूक हैं।  यह लोग देश और समाज के विषयों पर चिंता चर्चा अवश्य करते हैं।

3.  जैसा की अभी कहा, यह 25%  सूझवान लोग,  बुद्धिजीवी, यानी लेखक, कवी, पत्रकार, प्रोफेसर  इत्यादी नहीं हैं, लेकिन यही असली काम के लोग हैं। बाकि सब तो केवल एक संख्या हैं। इन 25%  लोगों में ज्यादा तर लोग जागरूक किसान, सैनिक,  मजदूर, विद्यार्थी, दूकानदार, गृहणियां,  पाठशालाओं के अध्यापक, दफ्तरों के कर्मचारी ,  लिपिक, चपरासी और मिरासी हैं। इन में से मिरासी वर्ग का एक हिस्सा, यानी सिंगिंग स्टार्स का वर्ग, थोड़ा धनवान हो गया है, बाकी सब निम्न से मध्य वर्गीय कामधन्दा करने वाले लोग हैं। इन का योगदान देश के निर्माण में अद्वित्य होता है, और इन्हीं से देश में बदलाव की किरण फूट सकती है।

4.   जहां तक बुद्धि जीवियों की बात है, वह मात्र 1% लोग हैं, लेकिन भारतीय बुद्धिजीवी जगत की त्रासदी यह है, कि भारत के बुद्धिजीवी वर्ग में ईमानदार बुद्धिजीवी उँगलियों पे गिने जा सकते हैं। यह वर्ग  इंटेलेक्चुअल तवायफों से भरा पड़ा है, पैसा फेंक, तमाशा देख वाली तवायफें, जिन की क़लम के नाड़े हमेशा खुले रहते हैं, जिन की कारीगरी की छातियाँ केवल नुमाइश के लिए  हैं।

5.  ज्यादातर भारतीय मीडिया का बिकाऊ होना इस का सबूत है। इस गलत फ़हमी में से निकल जाइये की किताब लिख लेने से, कविता पढ़ लेने से, पत्रकारिता कर लेने से, कोई इंसान बड़ी क्रन्तिकारी सोच का, या नेक ख्यालों का व्यक्ति बन जाता है। इन में से ज्यादा तर लोगों के लिए यह सब केवल पेशा हुआ करता है।

6.   ज्यादातर  बुद्धिजीवी केवल पेशेवर 'हुनर बेचू रण्डियाँ' हैँ, अन्यथा कुछ भी नहीं।  किसी अवार्ड या किसी एडवाईज़र के ख़िताब के बिस्कुट मात्र पे ही, यह तवायफें मुजरा करने लगती हैं।

7.   बुद्धिजीवी वर्ग के 90% लोग, शातिर मौका परस्त हुआ करते हैं,  यह वह बिकाऊ लोग हुआ करते हैं, जो सत्ताधारियों को, उन के काले कारनामों पे मुबारक ही नहीँ देते, उन का गुणगान भी करते हैं, और इस तरहं सत्ताधारियों द्वारा इस्तेमाल करने की वस्तु मात्र बन के रह जाते हैं।

8.   इस ही लिये आप देखते हैं की हर सत्तआधारी दल, अपनी अपनी बुद्धिजीवी रांडों को किसी न किसी फ़िल्म विद्यालय, किसी सेंसर बोर्ड, किसी कल्चरल चेयर या फिर राज्य सभा तक की कुर्सी इनाम के तौर पे देता हैं।   राजनितिक पुरुस्कार, किसी संस्था की कुर्सी,  परितोषक, और वाहवाही के बिस्कुट खिला कर राजनेता इन की हालत कुत्तों से भी बद्दतर कर देते हैं और यह बुद्धि जीवी, बेशक अछि कविता कहते हों, लेकिन सत्ता के गलियारों में, इन्हें अक्सर पूँछ हिलाते देखा जा सकता है।

9.    यह लोग सत्ता के हाथों बिकने के लिए ततपर रहते हैं।  कोई मंत्री का सलाहकार बनने की होड़ में रहता है, तो कोई राजकवि बनना चाहता है।  यह लोग तो,   'न सोच सकने वालों' से भी घटिया और गिरे हुए लोग होते हैं, जो सत्ता के छोटेमोटे शाही टुकड़ों के लिए, अपनी क़लम और सोच, रण्डियों की तरहं सत्ता के कोठों पे सजा देते हैं।

10.   आइये अब बात करें भोली जन्ता और शातिर नेताओं की। आप अवश्य कहें गे, की आखिर 70% लोगों को आप भोले भाले मूर्ख किस बेस पर कहते हैं। आखिर आप के द्वारा  मूर्खता  को मापने का पैमाना क्या है?

11.  तो चलिये देखते हैं और इस बात को यथार्थ की कसवट्टी पे परखते हैं।  मेरा मानना है की यदी  कोई नेता लाखों का सूट-बूट पहनकर खुद को गरीब कहे, 15 साल मुख्यमंत्री और तकरीबन 5 साल देश का प्रधानमन्त्री रहने के बाद, खुद को बेचारा ग़रीब  चायवाला कहे, और जन्ता  उसे बेचारा गरीब मान ले, तो जन्ता अवश्य मूर्ख ज्यादा, और समझदार कम है। यदी  देश की शीर्षतम इन्वेस्टिगेटिव एजेंसीज़,  का शीर्षतम बॉस, यानी देश का प्रधानमंत्री  कहे  कि मुझे सताया जा रहा है,  और जन्ता  उसे सच्च में एक सताया हुआ व्यक्ति मान ले, तो जन्ता अवश्य मूर्ख ज्यादा और समझदार कम है। जब  संसद मे पूर्ण बहुमत और 2 दर्जन से ज्यादा राज्यों मे सरकार होने के बाबजूद कोई कहे कि मुझे काम नही करने दिया जा रहा,  और जन्ता  उसे सच्च मान ले, तो जन्ता अवश्य मूर्ख ज्यादा, और समझदार कम है।

12. जब  देश या प्रदेश का कोई नेता भ्रष्टाचार  को समाप्त करने के वादों पे,  नशा तस्करी को समाप्त करने के वादों पे, क्राइम को समाप्त करने के  वादों पे इलेक्शन जीतें, लेकिन सरकार बनाने के बाद, वही नेता  तरहं तरहं के माफीया, जैसे की खनन माफीया , जंगल माफीया , नशा माफीया , देह व्यपार माफीया , इत्यादि को  अप्रत्यक्ष संरक्षण दे,  तथा मुजरिमों को  सांसद, विधायक, मंत्री आदी बना दे, और फ़िर कहे कि मै भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लड़ रहा हूं, और जन्ता  इस सब को सच्च मान ले, तो जन्ता अवश्य मूर्ख ज्यादा और समझदार कम है।

13.   सो मित्रो, हमें सच्च को समझना होगा,  भृष्ट राजनेताओं और बिकाऊ बुद्धिजीवियों से देश को बचाना हो गा।

14.  आज नही तो कल हमारे देश की जन्ता को अपने देश की व्यवस्था को चलाने के लिए  नए  विकल्प ढूँढने हों गे। नए राजनितिक दलों का गठन करना हो गा, पुराणी गली सड़ी, भ्र्ष्टाचार के जलेबी रस में भीगे मृत राजनितिक चूहों को समय के कचरादान में फेंकना हो गा और नए युवा चेहरों को मौका देना हो गा। हमें साहसी, ईमानदार, कर्मठ लोगों को  आगे लाना हो गा, जो इस भृष्ट, धूर्त और चाटुकार व्यवस्था से, भारत को मुक्ति दिलाएं।

15.  लेकिन यह तभी सम्भव है, जब आप और मुझ जैसे साधारण लोग,  किसान, अध्यापक, क्लर्क, सैनिक, मजदूर और सभी जागरूक लोग, व्यक्तिवाद या धर्म इत्यादि की राजनीती में न फंसते हुए, केवल राष्ट्रहित की बात करें, और इस चिंतन चर्चा को  आगे बढ़ाते चले जायें।
🚩तत्त सत्त श्री अकाल🚩
✒गुरु बलवन्त गुरुने⚔

🚩कहीं ऐसा तो नहीं ⁉ @ ✒GBG⚔

1.  यदि आप खुद को, इस देश के साथ, अपने समुदाय से पहले जोड़ के देखते हैं, तो अवश्य पढ़िए, और अगर आप  भारतीय होने की बनिस्बत,  हिन्दू, मुसलमान, सिक्ख ईसाई, भाजपायी अथवा काग्रेसी होना ज्यादा महत्वपूर्ण समझते हैं, तो चाहे न पढ़िए, क्यों की जो मैं कहने जा रहा हूँ, वह किसी भी वर्ग विशेष को न प्रस्सन करने के लिए  है और न क्षुब्ध करने के लिए ।वह केवल सच्चाई है, लेकिन थोड़ी कड़वी।

2.  आप भारतीय हैं तो, आप के मन में अवश्य यह विचार उठना चाहिये, कि राष्ट्रवाद के नाम पर, देशभक्ति के नाम पर या हिन्दू,  मुस्लिम अथवा सिक्ख प्राइड के नाम पर कहीं आप, केवल दाएं बाज़ू सरमायेदार दबंगता को मजबूत तो नहीं कर रहे ❓

3.  कहीं ऐसा तो नहीं, की जैसे समाजवाद के नाम पर खुद को समाजवादी कहने वाले, और ग़रीबों का उल्लू बना कर राज हासिल करने वालों ने, उत्तर प्रदेश में अपार धन संम्पदा और राजनीतिक ताकत हासिल कर ली है,  समाजवाद का नारा लगा कर वहां के दबंग नेताओं ने जिस तरहं केवल परिवारवाद को बढ़ावा दिया है,
जैसे बिहार में लालू एंड पार्टी बिल्लियनर बन गये हैं, बिलकुल वैसे ही,
कहीं ऐसा तो नही की अब हिंदु अथवा सिक्ख प्राइड के नाम पर आप केवल सरमायेदारों और कॉरपोरेट घरानों के राजनितिक गुर्गों का साथ दे रहे हैं ❓

4.  कहीं ऐसा तो नहीं, कि जुमलों और नारों की भृष्ट राजनीती में  आप,  फिर एक बार वही धोखा खा रहे हैं, जो पहले गरीबी हटाओ के नाम पे खाया था❓

5.  कहीं ऐसा तो नहीं कि आप, धार्मिकता, या राष्ट्रीयता अथवा खोखली देशभक्ति के नाम पर देश को अपनी निजी सम्पती बनाने वालों का साथ दे रहे हैं ❓

6.  कहीं 'सब का विकास, सब का साथ' का नारा देनेवालों के जुमलों पे मस्त हो कर आप फ़िर 'बांटो और राज करो' की नीती अपनाने वालों का और सत्ता प्राप्त कर के अपने और अपने अत्ती-धनवान साथियों के खज़ाने  भरने वालों का साथ तो नहीं दे रहे ❓

7.  कहीं ऐसा तो नहीं, हिन्दू राष्ट्रवाद के नाम पे हिन्दू होने का गर्व करते करते, हम भारतीय होने पे गर्व करना छोड़ रहे हैं ❓

8.  कहीं ऐसा तो नहीं  की भृष्ट व्यवस्था की पैदाइश, भृष्ट नेताओं द्वारा हम एक बार फिर छले जा रहे हैं ❓

9.   यदी हैं, तो यह समस्त देश के लिए चिंता, चिंतन और चर्चा, सभी का विषय है।
🚩सत्य ही ईश्वर है🚩
🔱संघर्ष ही इबादत है🚩
©✒गुरु बलवन्त गुरने⚔

📿A short Introduction to Tasawwuf @ ✒ GBG⚔

1.  Tasawwuf, also referred to as Sufism  is  the 'Esoteric' dimension of knowing or realising the core truths of existence via certain practices, kriyas,  mental exercises, silence or music and dance.

2.   Those who believe in God, as this or that, or as described in this or that religion, or as mine or yours, end up fighting with each other, unknowingly indulging in  'SHIRK'.

3.  As in the 'NonDual'   existence of energy, because of its flow/vibration as matter, the presence of 'MAYA', or Illusion is inevitable.

4.   Most of us are lost in Maya, or the material manifestation of Energy and thus can not ever realize 'Truth', as where there is 'Shirk', Truth can not exist,  and there  the Tasawwuf refuses to be functional.

5.  Some of you might say that 'SHIRK'  basically refers to polytheism, but  dear friends, beyond monotheism and polytheism, beyond the temples, mosques,  churches and gurudwaras lies the esoteric lifestyle of ISHAQ Haqeeqi.

6.   ISHAQ Haqeeqi,  refuses to be bound by any garb or external sign as it continues to serve 'Truth', without any condition, as at the same time refusing to be conditioned.

7.   Nanak, Kabir, Gobind, Meera, Bulleh Shah, Hashmat Shah, Mansoor and more have all been students and masters of Tasawwuf as a part of their diverse yet similar journeys.
🚩तत्तसत्तश्रीअकाल🚩
©✒Guru Balwant Gurunay⚔

🚩Is the 'Modern Democratic State', 'Just a CHARADE'❓@✒GBG⚔

1.  Many people always wonder as to why do a few police officers and armymem, specially belonging to a particular religion or a region, get killed, just before some one decides to  pull the carpet from under the very feet, which helped them spread their political carpet in the first place, in disturbed areas across world ⁉  WHY

2.   Why school children get killed in Pakistan or America,  before a big action against rebels or political opponents dubbed as terror brigades takes place, in side or outside the borders of concerned nation ⁉  WHY❓

3.   Why folks are allowed to be mowed down Inspite of intelligence inputs being available ⁉  WHY❓

4.  Why chemical weapons are sniffed in Iraq and Syria,  and why Saddam and Gaddafi get dubbed as devil reincarnates, before being mauled, bombed and destroyed  by the so called protectors of democracy and humanity. ⁉  WHY❓

5.   Why the retreating American army, leaves hundred plus M1A1 tanks, Scores of Humvees, artillery pieces, and scores of APCs lined up in Mosul, as they leave all this military hardware, nicely 'Stacked and Packed' only to be taken and used by ISIS. I mean, 'Whiskey Tango Foxtrot'. The question still stands good ⁉  WHY❓

6.  The reason is simple, the modern corrupt state, runs on popular vote, affected by public opinion, manipulated by  paid media,  and purely stage-managed  terror acts, assassinations and intercommunal  riots stage managed by intel agencies,  as the state depends on all this lying, manipulation and staged and  managed acts of violence,  for it's survival.

7.   Many of the events like assassinations, suicide bombings, terror strikes, lynchings, industrial strikes, dharnas, and riots,  are  purely stage managed  events, made to pass as unsuspect events,  by  the intel agencies and operatives, to manipulate public opinion.

8.    This is not my opinion alone, but has often been said/confessed,  in public or secret interviews, by ex intel operatives and officers.

9.   If some one is to enquire as to why all this is done, a one line answer,  to this would be, that all this is done to set the stage for the next political drama.

10.  Some assassinations, terror strikes, or even the whole big sepratist movements,  are in fact nothing more than government sponsored  dirty work, aimed at 'Sentimental Blackmail', of gullible public opinion.

11.  All this is abhorently sad and shocking and condemnable in the strongest possible words.

12.  Thus,  going by all the money being paid to media, the teaming up of tycoons and politicians, and the stage managed acts of assassinations and terror, is it not possible  that the modern democratic states are just but CHARADES, depending up on false flag  and smoke screen operations  ❓
In my opinion and many others like me,  with some learned and some earned insight, this most certainly is true.
🚩तत्त सत्त अकाल🚩
🔱✒ Guru Balwant Gurunay⚔